तिरुवनंतपुरम एयरपोर्ट पर पकड़ा गया 30 किलो सोने से भरा यूएई एम्बेसी का बैग

0
107

एयरपोर्ट पर शुक्रवार को संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) एम्बेसी का बैग कस्टम अधिकारियों ने पकड़ा था। यूएई के अधिकारियों ने मंगलवार को कहा कि तस्करी के इस मामले में हमारे डिप्लोमैट का हाथ नहीं है। भारत में यूएई के राजदूत अहमद अल बन्ना ने कहा कि वे इस मामले के लिए केरल के अधिकारियों से बातचीत करेंगे।

कस्टम अधिकारियों को एयरपोर्ट पर सोने की तस्करी की खबर लगी थी। इसके बाद उन्होंने एक डिप्लोमैटिक बैग को जब्त किया। इसमें केरल स्थित यूएई के कान्सुलेट का पता था। यह बैग यूएई से एक चार्टर्ड फ्लाइट से एयरपोर्ट लाया गया था और इसमें 30 किलो सोना था।

कॉन्सुलेट के पूर्व कर्मचारी का हाथ, वो केरल का ही रहने वाला
तिरुवनंतपुर में यूएई कॉन्सुलेट ने एक स्टेटमेंट भी जारी किया। इसमें कहा गया- इस मामले में हमारे डिप्लोमैट का कोई हाथ नहीं है। तस्करी में शामिल किसी व्यक्ति द्वारा डिप्लोमैटिक चैनल का इस्तेमाल किए जाने की हम निंदा करते हैं।

शुरुआती जांच में सामने आया है कि कॉन्सुलेट के लिए स्थानीय स्तर पर रखा गया एक कर्मचारी इस काम में शामिल है। हालांकि, इस कर्मचारी को तस्करी की घटना से पहले ही गलत गतिविधियों के चलते नौकरी से हटा दिया गया था। उसने कॉन्सुलेट में अपनी जानकारी और संबंधों का आपराधिक गतिविधि के लिए इस्तेमाल किया।

फेक आईडी के साथ गिरफ्तार किया गया पूर्व कर्मचारी
केरल पुलिस ने इस मामले में कॉन्सुलेट के दो पूर्व कर्मचारियों सरिथ कुमार और स्वप्न सुरेश को आरोपी बनाया है। सरिथ कुमार इस बैग को लेने के लिए फेक आईडी लेकर एयरपोर्ट गया था। 

कुवैत के राष्ट्र में भारत के प्रवासी श्रमिकों को एक बड़ा झटका लगा है क्योंकि खाड़ी देश एक एक्सपेट कोटा बिल पारित करना चाहते हैं, जो आने वाले वर्षों में देश में विदेशी श्रमिकों की संख्या में उल्लेखनीय रूप से कमी आएगी।

जिस विधेयक को देश की नेशनल असेंबली की विधायी समिति द्वारा संवैधानिक माना गया है, उसे अभी तक कानून में निहित नहीं किया जा सका है, लेकिन कुवैत में काम करने वाले भारतीयों का प्रतिशत गिरकर 15 प्रतिशत हो सकता है, इस सवाल का सात और के बीच का वायदा है। आठ लाख भारतीय प्रवासी।

कुवैत की आबादी 4.8 मिलियन है, जिसका 70 प्रतिशत हिस्सा अपने प्रवासी समुदाय द्वारा बनाया गया है। भारतीय, अब तक, राष्ट्र के भीतर सबसे बड़ा प्रवासी संघटन है, जिसकी संख्या लगभग 1.4 मिलियन है। कुवैत में भारतीय दूतावास का अनुमान है कि लगभग 28,000 भारतीय कुवैती सरकार द्वारा ही इंजीनियरिंग, नर्सिंग और वैज्ञानिक अनुसंधान जैसे कुशल और अर्ध-कुशल व्यवसायों में कार्यरत हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here